Skip to content
Home » पंच केदार ट्रेक का सम्पूर्ण मार्गदर्शिका 🏞️🛤️(The Complete Guide To Panch Kedar Trek)

पंच केदार ट्रेक का सम्पूर्ण मार्गदर्शिका 🏞️🛤️(The Complete Guide To Panch Kedar Trek)

panch-kead-trek-route

The Complete Guide To Panch Kedar Trek: उत्तराखंड में बिखरे कई मंदिर विभिन्न देवी-देवताओं की पूजा-अर्चना के लिए प्रसिद्ध हैं। गढ़वाल क्षेत्र में, भगवान शिव के पांच प्रसिद्ध मंदिर – केदारनाथ, मध्यमहेश्वर, तुंगनाथ, रुद्रनाथ, और कल्पनाथ – पंच केदार के नाम से जाने जाते हैं। इन स्थानों की उत्पत्ति के पीछे कई पौराणिक कथाएं हैं। महाभारत के पांडवों को सलाह दी गई थी कि वे उत्तराखंड में जाकर अपने पापों का प्रायश्चित करें। भगवान शिव, जो भैंसे के रूप में छिपे थे, भीम द्वारा पहचाने जाने पर पाँच हिमालयी स्थलों में प्रकट हुए। ये स्थान भगवान शिव के विभिन्न अंगों का प्रतीक माने जाते हैं: केदारनाथ कूबड़, मध्यमहेश्वर नाभि, तुंगनाथ भुजाएँ, रुद्रनाथ मुख और कल्पनाथ जटाएँ।

संक्षिप्त यात्रा कार्यक्रम 🗺️

ट्रेक के मुख्य आकर्षण:

  1. एक यात्रा में पंच केदार के सभी पांच मंदिरों का दौरा।
  2. घने जंगलों में ट्रेक करें और पर्वतों की खूबसूरत चोटियों पर पहुँचें।
  3. रास्ते में ढाबों और ठहरने के विकल्पों की उपलब्धता, जो आपकी फिटनेस और समय के अनुसार ट्रेक की गति निर्धारित करने में सहायक है।

विस्तृत मार्ग जानकारी 📍

दिन 1: हरिद्वार से हेंलंग

  • ऊँचाई: 6,696 फीट
  • समय: हरिद्वार से 9 घंटे की ड्राइव
  • मार्ग: साझा टैक्सियाँ उपलब्ध हैं जो प्रति सीट ₹600-800 चार्ज करती हैं।

दिन 2: हेंलंग से कल्पेश्वर वाया लायरी

  • ऊँचाई: 7,217 फीट
  • समय: 5-6 घंटे का ट्रेक
  • मार्ग: ज्यादातर फ्लैट, आसान-मध्यम ट्रेक
  • पानी के स्रोत: रास्ते में एक पानी का स्रोत मिलेगा।

दिन 3: सागर से पनार

  • ऊँचाई: 11,155 फीट
  • समय: 6-8 घंटे, 12 किमी
  • मार्ग: कठिन, खड़ी चढ़ाई
  • पानी के स्रोत: धाराएँ और ढाबे

दिन 4: पनार से रुद्रनाथ

  • ऊँचाई: 11,811 फीट
  • समय: 6-7 घंटे, 11 किमी
  • मार्ग: मध्यम-कठिन, खड़ी चढ़ाई
  • पानी के स्रोत: पंच गंगा तक कोई नहीं

दिन 5: पंच गंगा से मंडल वाया नाओला पास और अनुसूया देवी मंदिर

  • ऊँचाई: 14,000 फीट
  • समय: 7-8 घंटे, 11 किमी
  • मार्ग: मध्यम, खड़ी उतराई
  • पानी के स्रोत: अनुसूया देवी मंदिर के पास एक ढाबा

दिन 6: चोपता पहुंचें

  • समय: मंडल से एक घंटे की ड्राइव
  • विशेष: आराम करें और 1 बजे की बस पकड़ें

दिन 7: तुंगनाथ देखें और रांसी पहुंचें

  • ऊँचाई: 12,083 फीट
  • समय: 2-3 घंटे, 6 किमी
  • मार्ग: मध्यम, खड़ी चढ़ाई
  • पानी के स्रोत: कोई नहीं, 2 लीटर पानी ले जाएँ

मैती आंदोलन: पर्यावरण संरक्षण की अनूठी पहल, जानें इसका इतिहास

दिन 8: मध्यमहेश्वर के लिए नानू तक ट्रेक

  • ऊँचाई: 7,743 फीट
  • समय: 6 घंटे, 10 किमी
  • मार्ग: मध्यम
  • पानी के स्रोत: ढाबों से पानी भरें

दिन 9: मध्यमहेश्वर के लिए ट्रेक

  • ऊँचाई: 11,483 फीट
  • समय: 6 घंटे, 6 किमी
  • मार्ग: मध्यम
  • पानी के स्रोत: ढाबों से पानी भरें

दिन 10: रांसी लौटें

  • ऊँचाई: 6,440 फीट
  • समय: 6-7 घंटे, 16 किमी
  • मार्ग: मध्यम

दिन 11: गौरीकुंड पहुंचें

  • समय: रांसी से गौरीकुंड तक 73 किमी की यात्रा बस और टैक्सी से

दिन 12: केदारनाथ के लिए ट्रेक

  • ऊँचाई: 11,657 फीट
  • समय: 6-7 घंटे, 16 किमी एक तरफ
  • मार्ग: मध्यम
  • पानी के स्रोत: ढाबों से पानी भरें

इस यात्रा में आपको उत्तराखंड की अद्भुत प्राकृतिक सुंदरता और पौराणिक कथाओं का अनुभव होगा। 🚶‍♂️🕉️

केदारनाथ यात्रा 2024 के लिए पंजीकरण कैसे करें (Registration for Kedarnath Yatra 2024)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *